जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।

Find Us On:

English Hindi
Loading

एक भाव आह्लाद हो ! (काव्य)

Author: डॉ० इंद्रराज बैद 'अधीर'

थकी-हारी, मनमारी, सरकारी राज भाषा है,
बड़ी दीन, पराधीन बिचारी स्वराज भाषा है ।
किसी के इंगितों पर डोलती यह ताज भाषा है,
जिस तरह चाहो, करो, हिन्दी तुम्हारी राजभाषा है ।

अभ्यास है इसके अधर को सीने अश्रु पीने का,
अन्यायों को सहने, घुट-घुटके मरने-जीने का ।
असहाय है ऐसी कि इसकी संतान ही नामर्द है,
कोई नहीं पहिचानता कि दिल में कैसा दर्द है ।

जो भी आया कर गया है साथ इसके दिल्लगी,
अवश जोड़े हाथ सबकी करती रही है बंदगी ।
यह भी कैसी माँ कि इसके बेटे इसे भूलते,
सुनीति को तज सुरुचि की ही गोद में वे झूलते ।

इस पाप का, संताप का हे दैव, अब तो अंत हो;
निष्प्राण इसकी संतति फिर एक बार जीवंत हो ।
जागें, बढ़े आगे कि झुकता सामने जहाँ मिले;
सोये हुए सिंह-सुतों से पुन: उनकी माँ मिले ।

हों भारती की अर्चना में भारतीय बोलियाँ,
भरती जाए ज्ञान से विज्ञान से ये झोलियाँ ।
हो एक देश, एक प्राण, एक भाव आह्लाद हो,
निखिल विश्व में गूंजता जनभारती का नाद हो !

- डॉ० इंद्रराज बैद 'अधीर'

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश