देशभाषा की उन्नति से ही देशोन्नति होती है। - सुधाकर द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

पिंकी (काव्य)

Author: बाबू लाल सैनी

एक विरोधी पक्ष के नेता गाँव में पधारे,
और,
भीड़ इक्ट्ठी कर मंच से दहाड़े,
भाइयो और बहनों-
पिछली बार दूसरी पार्टी वाले सत्ता में आ गए,
और देश के नदी-नाले सब बेच कर खा गए.
इस बार हमें मौका दीजिए,
और देखिए-
महंगाई और भ्रष्टाचार का नाश होगा,
गाँव मे फिर से विकास होगा।

इस पर एक औरत उठ कर चिल्लाई-
इसका भरोसा मत करना भाई।
कथनी और करनी मे बहुत फर्क है इनकी,
ये पिछली बार भी बोले थे विकास होगा-
और हो गई पिंकी !

- बाबू लाल सैनी
ई-मेल: sainibl96@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश