मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।

Find Us On:

English Hindi
Loading

भावनात्मक बुद्धिमत्ता (ईआई) और कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई)  (विविध)

Author: अभिनंदन जैन

स्वचलीकरण (Automation ) और कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI) व्यापार व समाज के लिए नए अवसर के साथ-साथ अधिक निपुणता प्रदान कर रहे हैं। यह कर्मचारी और संगठन दोनों की अद्वितीय मानव संज्ञानात्मक क्षमताओं पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं क्योंकि मशीनें मानव की मालिक नहीं हो सकती हैं। भावनात्मक बुद्धिमत्ता (EI) एक ऐसा क्षेत्र है जिसको AI और मशीनों द्वारा अनुकरण करना कठिन लगता है । इसी कारण से यह आज के युग में एक आवश्यक कौशल बन गया है। AI हर जगह है और हमारे कार्य और घरेलू जीवन दोनों जगहों पर अत्यधिक प्रचलित हो रहा है।

मुझे लगता है कि AI कंपनियों की जॉब प्रोफाइल को बदल देगा, जहाँ कई पारंपरिक भूमिकाएं पहले से ही स्वचालित हो चुकी हैं । अत्याधुनिक AI के साथ, अधिकतर भूमिकाएं उन मशीनों द्वारा की जाएगी जो मानव बुद्धि की पूरक हैं और मनुष्यों को अपने नौकरी कौशल को विकसित करने में मदद कर रही हैं। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की भविष्य की रिपोर्ट [1] के अनुसार, 2022 तक 50% से भी अधिक कर्मचारियों को विश्व स्तर पर छह महीने या उससे अधिक समय तक महत्वपूर्ण पुनर्मूल्यांकन की आवश्यकता होगी। कर्मचारियों (कार्यबल ) का विन्यास भी बदल रहा है। Instant Offices Ltd [2] द्वारा हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि 2020 तक वैश्विक कार्यबल का 35% युवा वयस्क होंगे और यह देखते हुए कि 72% युवा वयस्क 5 वर्षों के भीतर अपनी नौकरी छोड़ देंगे, क्या हम आज अपने कार्यबल की जरूरतों को पूरा कर पा रहे हैं? इसमें और क्या चुनौतियां हैं?

• क्या हम अपने कार्यबल को पर्याप्त रूप से और कुशलता से दोबारा दक्ष कर 
  सकते हैं?
• रोजगार के अवसर के नए क्षेत्र क्या हैं, जो वर्तमान में मौजूद नहीं हैं?
• क्या हम अधिक रचनात्मक एवं मौलिक विचारधारा रखने वाले कर्मचारियों के साथ अपने कार्यस्थलों के दृष्टिकोण में होने वाले परिवर्तन का सामना कर सकते हैं?
• क्या कुछ ऐसे संभावित अनुप्रयोग हो सकते हैं जिनसे जाना जा सकता है कि 
   व्यक्ति विशेष के अनुभव के आधार पर उनकी सबसे अच्छी नई भूमिका क्या हो 
   सकती है?
• हम सबसे कुशल और पटु पुनःप्रशिक्षण के कार्यक्रमों को कैसे सुनिश्चित कर सकते
   हैं?
• हम अपने कर्मचारियों के साथ-साथ अपने ग्राहकों के लिए भी अनुभव को अधिक 
   वैयक्तीकृत कैसे बना सकते हैं?

AI इन चुनौतियों से निपटने में मदद कर सकता है और इसके द्वारा हमारे कार्यबल को भावनात्मक रूप से जागरूक बनाया जा सकता है। AI के संदर्भ में EI की दूसरी मीमांसा से यह भी कि प्रश्न उठता है कि AI को भावप्रवणता से कैसे अवगत कराया जा सकता है और हमें क्या करना चाहिए?

हाल की ग्राहकों की अधिक वैयक्तीकृत अनुभवों की प्रवृत्ति को देखते हुए, हम इस प्रवृत्ति को आसानी से भावनाओं में बदल सकते हैं । न केवल यह जान सकते हैं कि ग्राहक क्या चाहते हैं, बल्कि यह भी समझ सकते हैं कि वे उस पल कैसा महसूस कर रहे हैं । उनकी भावनाओं के आधार पर ग्राहकों के इच्छित उत्पादन को संशोधित कर सकते हैं। जब हम ग्राहक की मांग के आधार पर किसी एक सिफारिश पर निर्णय लेते हैं, तो हम उसकी भावनाओं और विचारों का अनुमान लगाते हैं जो उनके व्यवहार और हमारे द्वारा किए जाने वाले कार्यों को प्रभावित करते हैं। इन अनुमानों के पीछे हमें हजारों भावनात्मक रूप से जागरूक निर्णय करने होते हैं।

Emotional Intelligence and Artificial Intelligence

कार्यस्थल पर AI का पहला प्रभाव यह होगा कि हमारे पिछले मानव एजेंट एक गैर-मानव एजेंट द्वारा प्रतिस्थापित किए जाने पर क्या करते है? वे या तो AI का प्रबंधन करने के लिए फिर से प्रयास कर सकते हैं, व्यवसाय के लिए अभिनव व मौलिक समाधानों के लिए अधिक प्रयास कर सकते हैं या यदि कोई ग्राहक मानव एजेंट से बात करना चाहे तो उसके लिए उपलब्ध हो सकते हैं । तब शायद AI एजेंट की सबसे महत्वपूर्ण निपुणता यह जानने की क्षमता में होगी कि कब मानवीय पूर्वस्थिति स्थापित की जा सकती है और यह इस बात पर निर्भर करेगा कि संवाद कैसे प्रगति कर रहा है।

आखिरकार, यदि अत्यधिक भावुक संदर्भ है तो लोग मानव से ही बात करना पसंद करते हैं ।

ऐसे में क्या हम एक ऐसे परिवर्तन काल में होने का दावा कर सकते हैं जब कि AI एजेंट और मानव एजेंट के बीच भेद ही नहीं किया जा सके ?
या
क्या हम दावा कर सकते हैं कि समय इतना परिवर्तित हो जायगा कि हम AI एजेण्ट और मानव एजेण्ट के बीच कोई भेद ही न कर पायें ?

-अभिनंदन जैन

[1] https://www.weforum.org/agenda/2020/02/emotional-intelligence-career-life-personal-development/
[2] https://www.openaccessgovernment.org/2020-workforce-will-be-dominated-by-millennials/55775/
[3] छवि स्रोत : https://www.estuate.com/company/blog/content/ai-workplace-how-manage-change/

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.