हिंदुस्तान को छोड़कर दूसरे मध्य देशों में ऐसा कोई अन्य देश नहीं है, जहाँ कोई राष्ट्रभाषा नहीं हो। - सैयद अमीर अली मीर।

Find Us On:

English Hindi
Loading

कोरोना हाइकु (काव्य)

Author: बासुदेव अग्रवाल नमन

कोरोनासुर
विपदा बन कर
टूटा भू पर।

**

यह कोरोना
सकल जगत का
अक्ष भिगोना।

**

कोरोना पर
मुख को ढककर
आओ बाहर।

**

कोरोना यह
जगत रहा सह
कैदी सा रह।

**

कोरोना अब
निगल रहा सब
जायेगा कब?

-बासुदेव अग्रवाल नमन
तिनसुकिया, असम, भारत
ई-मेल: basudeo@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.