हिंदी उन सभी गुणों से अलंकृत है जिनके बल पर वह विश्व की साहित्यिक भाषाओं की अगली श्रेणी में सभासीन हो सकती है। - मैथिलीशरण गुप्त।

Find Us On:

English Hindi
Loading

गुर्रमकोंडा नीरजा की कविताएं  (काव्य)

Author: गुर्रमकोंडा नीरजा

तीन शब्द

तीन शब्द----
हाँ! तीन ही शब्द

नफरत!
शक!!
डर!!!

बोए और काटे जा रहे हैं हर वक्त
रिश्तों की जड़ों में सींचकर ज़हर!

--- डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा 


#


खबरदार!

तुम रक्षक हो या भक्षक?
मासूमों की चीख सुनकर भी
तुम्हारे कण नहीं खुलते!

कब तक बहलाओगे
झूठी कहानियों से?

शिकारी को छोड़कर
शिकार को लूट रहे हो !
इन्साफ माँगने वालों को सजा दे रहे हो?

सारे शिकार एकजुट हो रहे हैं,
तुम्हारे खिलाफ बगावत तय है!

- डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा 
  सह-संपादक 'स्रवंति' 
  असिस्टेंट प्रोफेसर

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.