जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।

Find Us On:

English Hindi
Loading

तू भी है राणा का वंशज  (काव्य)

Author: वाहिद अली 'वाहिद'

कब तक बोझ सम्भाला जाये
युद्ध कहाँ तक टाला जाये ।
दोनों ओर लिखा हो भारत
सिक्का वही उछाला जाये ।
इस बिगडैल पड़ोसी को तो
फिर शीशे मे ढाला जाये ।

तू भी है राणा का वंशज
फेंक जहाँ तक भाला जाये ।
तेरे मेरे दिल पर ताला
राम करें ये ताला जाये ।
'वाहिद' के घर दीप जले तो
मंदिर तलक उजाला जाये ।

- वाहिद अली 'वाहिद'

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.