अकबर से लेकर औरंगजेब तक मुगलों ने जिस देशभाषा का स्वागत किया वह ब्रजभाषा थी, न कि उर्दू। -रामचंद्र शुक्ल

Find Us On:

English Hindi
Loading

घर जला भाई का (काव्य)

Author: खुरशीद

कौम के वास्ते कुछ करके दिखाया न गया
कौम का दर्द कभी उनसे मिटाया न गया ।

चुगलियाँ लोगों की हुक्काम* से जाकर खाई
आईना कौम की हालत का दिखाया न गया ।

शग्ले-मैनोशी* में गो लाखों करोड़ों खोए
कौम के सदके में पर कुछ भी दिलाया न गया ।

क्या यही दर्द है ‘खुरशीद' हमारे दिल में
घर जला भाई का और उठके बुझाया न गया ।

--खुरशीद

हुक्काम = शासक
शग्ले-मैनोशी = मदिरा पान

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

Captcha Code

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश