समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

Find Us On:

English Hindi
Loading

अनमोल सीख (काव्य)

Author: कोमल मेहंदीरत्ता

घने-काले बादल
झूमती-गाती मतवाली हवा
मानो! पेड़ों को गुदगुदी कर जाती
खिलखिलाते हुए पेड़
उसे पकड़ने, उसके पीछे-पीछे
दूर तक दौड़े जाते, और
पकड़ न पाने पर
एक रूठे बच्चे की तरह
ख़ूब मचल-मचल कर
दाएँ-बाएँ अपना सिर हिलाते, और
बादलों की गड़गड़ाहट में
कुछ-कुछ कह जाते।

हवा फिर-फिर आती
उन्हें मनाने
और चुपचाप से उन्हें गुदगुदी कर
फिर दौड़ जाती।

खेलना-खिलखिलाना,
हँसना-मुसकराना,
रूठना-मनाना,
प्रकृति का यह प्यारा-सा खेल
जाने-अनजाने ही
ख़ुशियों की अनमोल सीख दे जाता
जीवन इन्हीं छोटी-छोटी ख़ुशियों का नाम है
काश, आज का इंसान समझ पाता!

--कोमल मेहंदीरत्ता
ई-मेल: komal.mendiratta@nd.balbharati.org

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

Captcha Code

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश