किसी साहित्य की नकल पर कोई साहित्य तैयार नहीं होता। - सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'।

Find Us On:

English Hindi
Loading

कुछ छोटी कवितायें  (काव्य)

Author: प्रीता व्यास

मिठास
तुम्हारी मुस्कराहट
की
बिलकुल जैसे
शगुन का
मोतीचूर।

#

टकराते हैं
यादों के बादल
जब-जब,
एक चेहरा
बिजली-सा
कौंध जाता है।

#

वो सारी बातें
जो मैं
कह नहीं सकी तुमसे,
दरअसल
कहने की बातें तो
वही थीं।

#

जीवन में अर्थ
मिले, न मिले
जीवन को
अर्थ मिले।

#

किसने बांटा है
किसका अकेलापन
धोखा है सब।

-प्रीता व्यास
[प्रीता व्यास के फेसबुक से] 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश