देशभाषा की उन्नति से ही देशोन्नति होती है। - सुधाकर द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

ऐ ज़िन्दगी मत पूछ (काव्य)

Author: शांती स्वरूप मिश्र

ऐ ज़िन्दगी मत पूछ, कि कितना करम बाक़ी है !
कितने तूफ़ान आने हैं, और कितना ग़म बाक़ी है !

देखनी है अभी तो अपने परायों की असलियत भी,
कितनों के दिल हैं पत्थर, कितनों में रहम बाक़ी है !

छलती रही है ये दुनिया न जाने कितनी तरह से,
देखना है कि लोगों में अभी, कितनी शरम बाक़ी है !

अरे न कर हौसले पस्त वरना तू कैसे जी सकेगा,
न भूल कि दुनिया में अभी, कुछ तो धरम बाक़ी है !

न उलझ तू बीते ज़माने के उन फसानों से "मिश्र",
तेरी ज़िन्दगी का तो अभी, अंतिम कदम बाक़ी है !

शांती स्वरूप मिश्र
ई-मेल: 1952@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश