देशभाषा की उन्नति से ही देशोन्नति होती है। - सुधाकर द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

क्षणिकाएँ  (काव्य)

Author: कोमल मेहंदीरत्ता

विडंबना


इक अदना-सा मोबाइल
कुछ हजार या
कुछेक का, लाख़ का भी मोबाइल
कभी दूर के रिश्तों को जोड़ता था
आज
पास के रिश्तों को ही तोड़ता है मोबाइल


#

 

दिखावे की दुनिया


हमारे रूतबे का प्रतीक : सड़कों पर दौड़ती-चमकती गाडियाँ
घंटो जाम में खड़ी है अपने एक अदद मालिक और टोपी धारी शॉफर के साथ ।
बड़े-बड़े शहरों की लगातार छोटी होती जाती सड़कें भी बेचारी क्या करें?
हाय! ये दिखावे की दुनिया, ये होड़ा-होड़ी।

- कोमल मेहंदीरत्ता
komalmendiratta@hotmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश