कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

सबसे बढ़कर (बाल-साहित्य )

Author: रमापति शुक्ल

आलपीन के सिर होता पर
बाल न होता उसके एक ।

कुर्सी के दो बाँहें हैं पर
गेंद नहीं सकती है फेंक ।

कंधी के हैं दाँत मगर वह
चबा नहीं सकती खाना ।

गला सुराही का है पतला
किंतु न गा सकती गाना ।

होता है मुँह बड़ा घड़े का
पर वह बोल नहीं सकता ।

चार पैर पलंग के होते
पर वह डोल नहीं सकता ।

जूते के है जीभ मगर वह
स्वाद नहीं चख सकता है ।

आँखें होते हुए नारियल
देख नहीं कुछ सकता है ।

है मनुष्य के पास सभी कुछ
ले सकता है सबसे काम
इसीलिए दुनिया में सबसे
बढ़कर है उसका ही नाम।

- रमापति शुक्ल
[ बाल भारती 2002]

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश