समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

Find Us On:

English Hindi

भारत वंदना  (काव्य)

Author: व्यग्र पाण्डे

वंदनीय भारत ।
अभिनंदनीय भारत ।।

उत्तर में हिमालय
तीर्थों का है जो आगर
दक्षिण चरण पखारे
पवित्र हिन्दू-सागर
अटक से कटक तक
भरी प्रेम गागर
तर्पणीय भारत ।
प्रातः स्मरणीय भारत ।।

ॠषियों की तपोभूमि
वीरों का जो खजाना
हुए राम-कृष्ण अवतरित
रहा देवों का आना-जाना
प्रकृति हरी-भरी जहाँ
गाती नदी तराना
पूजनीय भारत ।
अतिशोभनीय भारत ।।

वेदों का ज्ञान जिसमें
भरा उन्नत विज्ञान जिसमें
पुराणों की जन्मदाता
स्मृतियों का पान जिसमें
मुनि व्यास की धरा जो
हुआ तुलसी का जन्म जिसमें
धारणीय भारत ।
पालनीय भारत ।।

राणा की जो धरा है
बलिदानी परंपरा है
शिवाजी का सा कौशल
कदम-कदम भरा है
शहीदों की शहादत से
शोभित वसुंधरा है
प्रदर्शनीय भारत ।
अनुकरणीय भारत ।।

भिन्न-भिन्न भाषा
भिन्न-भिन्न धर्म
भिन्न-भिन्न पहनावा
भिन्न-भिन्न कर्म
‘अनेकता में एकता'
है जहाँ का मर्म
प्रशंसनीय भारत ।
वर्णनीय भारत ।।

- व्यग्र पाण्डे
कर्मचारी कालोनी, गंगापुर सिटी
स.माधोपुर (राज.) 322201
मोबाइल नंबर-9549165579
ई-मेल: vishwambharvyagra@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश