अकबर से लेकर औरंगजेब तक मुगलों ने जिस देशभाषा का स्वागत किया वह ब्रजभाषा थी, न कि उर्दू। -रामचंद्र शुक्ल

Find Us On:

English Hindi

वो तुम नहीं हो (काव्य)

Author: शिल्पा वशिष्ठ

सुनो जाना मेरी बातों में जिस का ज़िक्र होता है
वह तुम-सा है, मगर वो तुम नहीं हो
मेरी नज़्मों के कोहरे से, वो साया इक जो बनता है
वो तुम-सा है, मगर वो तुम नहीं हो
मेरे लफ़्ज़ों के रंगों से,धनक जो एक खिलता है
तुम्हारे अक्स जैसा है, मगर वो तुम नहीं हो
तुम्हें कैसे कोई इलज़ाम दे दे, बेवफाई का
तुम भला क्यों वजह होते मेरी रुसवाई क़ातिल का
सुनो जाना, जुबां के लड़खड़ाने से
नाम जो लब पर आया था
तुम्हारे नाम जैसा है, मगर वह तुम नहीं हो
वह तुम-सा है, मगर वह तुम नहीं हो।

आलम-ए-बेखुदी में जो बयां था कर दिया उस दिन
रंग तुम-सा, शक्ल तुम-सी, अदाएं भी तुम्हारी-सी
मगर मैं क्यों तुम्हारा ज़िक्र गैरों में भला करता!
मेरे खत में, ख़ितावत में, पुरानी उन किताबों में
जो रुक्के अब भी मिलते हैं
मैं सबको पुरस्सर, यकीन ये ही दिलाता हूँ
कि मसला ये मुझे लगता है बेशक इत्तेफाकों का
चलो माना, तहरीर थोड़ी तुम से मेल खाती है
मगर वो तुम नहीं हो
कि जिसको ज़ेहन में रखकर इबादत रात-दिन की थी
वह मूरत तुम से मेल खाती है, मगर वो तुम नहीं हो

मेरे दाखिल कहीं होने से जब आलम महकता है
वह खुशबू लोग कहते हैं, तुम्हारी है
मेरा अंदाज़ कहते हैं, अलग-सा ही झलकता है
यह मीठा-सा जो लहज़ा है, तेरे अंदाज़ जैसा है
यह मैं नहीं जाना, यहाँ के लोग कहते हैं
मैं कहते-कहते थक गया
बड़ी अजीब बातें हैं
मगर बस इत्तेफ़ाक़न हैं !
मगर बस इत्तेफ़ाक़न हैं !!

-शिल्पा वशिष्ठ, देहली, भारत।

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश