अकबर से लेकर औरंगजेब तक मुगलों ने जिस देशभाषा का स्वागत किया वह ब्रजभाषा थी, न कि उर्दू। -रामचंद्र शुक्ल

Find Us On:

English Hindi

वचनामृत  (बाल-साहित्य )

Author: प्रो आनंदशंकर बापुभाई ध्रुवजी

तुम्हें चाहिए सदा बहन-भाई से मिलकर रहना;
सबसे मीठे बोल-बोलना, नहीं वचन कटु कहना ।

मात-पिता-गुरु आदि बड़ों का मान सदा ही करना ;
पढ़ने में मन खूब लगाना, कुपथ नहीं पग धरना ।

जैसे छोटी नींव डालकर बड़ा महल बनवाते ;
वैसे विद्या-नींव डाल शिशु में मनुष्यता लाते ।

जो कुछ बचपन में पढ़ लोगे काम वही आवेगा;
भला बना सौ भला, बुरा सो बुरा नाम पावेगा।

कभी न बोलो झूठ, मान लो उत्तम सीख हमारी ।
बिना बात बक बक करने से होती है बस ख़्वारी ।

सदा डरो तुम बुरे काम से पाप न रक्खो मन में;
याद रहे, प्रभु व्याप रहा है सारे जड़-चैतन में।

रक्खो ध्यान उसी का हरदम सुधरे बुद्धि तुम्हारी;
सेवा करो पिता-माता की नाम कमाओ भारी।

- प्रो आनंदशंकर बापुभाई ध्रुवजी
  अनुवाद: बदरीनाथ भट्ट

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश