हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।
राजा-रानी  (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:जयप्रकाश भारती

एक थे राजा, एक थी रानी
दोनों करते थे मनमानी
राजा का तो पेट बड़ा था
रानी का भी पेट घड़ा था

खूब वे खाते छक-छककर
फिर सो जाते थक-थककर

काम यही था बक-बक, बक-बक,
नौकर से बस झक-झक, झक-झक।

- जयप्रकाश भारती
[हिंदी के सर्वश्रेष्ठ बालगीत, १९८७, पराग प्रकाशन, दिल्ली]

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें