परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

Find Us On:

English Hindi
Loading
चिड़िया की हेल्थ (बाल-साहित्य ) 
Click to print this content  
Author:डॉ अनुपमा गुप्ता

चिड़िया रानी-चिड़िया रानी
कैसे ऊँची उड़ जाती हो
लंच-डिनर में क्या खाती हो?
हमको नहीं बताती हो।


छोटे-छोटे बीज चबाऊँ
रूखे-सूखे कीड़े
मुझको भाते तनिक नहीं हैं
मैगी,चाट,पकौड़े।


हरी-हरी सब्ज़ी खाऊँगा
अच्छी बात बताती हो।
लंच-डिनर में- - -


सुबह-शाम मेहनत करती हूँ
श्रम से तनिक नहीं डरती हूँ
तिनका-तिनका नीड़ बनाती
बच्चे भी पाला करती हूँ।


सुबह-शाम तुम जिम को जाती
सीक्रेट नहीं बताती हो।
लंच-डिनर- -


भोलू राजा, भोले हो तुम
मेहनत ज़रा न करते हो तुम
तले पकौड़े तुम नित खाते
फ़ास्ट-फ़ूड पर मरते हो तुम
काम बहुत मुझको करने हैं
फिर मिलने, उड़ जाती हूँ मैं।
लंच-डिनर- -


आखिरी आन्सर देती जाओ
कैसे तुम सुंदरता पाओ
चटकीले हैं रंग तुम्हारे
कैसे तुम नित निखरी जाओ?
हमें बताओ, नहीं छुपाओ
ब्यूटी-पार्लर जाती हो तुम?


भोलू राजा बुद्धू हो तुम
बात समझ न आती है----!

- डॉ अनुपमा गुप्ता
ई-मेल: [email protected]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश