नागरी प्रचार देश उन्नति का द्वार है। - गोपाललाल खत्री।

Find Us On:

English Hindi
Loading
अमिता शर्मा की दो क्षणिकाएं  (काव्य) 
Click to print this content  
Author:अमिता शर्मा

सांप

मीठा बनकर
जब भी कोई डसता है
तो...
जाने क्यूं !
सांप पर मुझे
बहुत प्यार आता है।

- अमिता शर्मा

#

 

सवाल

वो....
जो नमक छिड़कते हैं
किसी के दुखते छालों पर,
एक सवाल पूछने को
जी करता है..
क्या तुम,
सुख की गारंटी लेकर आए हो?

- अमिता शर्मा

 

Previous Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.