अहिंदी भाषा-भाषी प्रांतों के लोग भी सरलता से टूटी-फूटी हिंदी बोलकर अपना काम चला लेते हैं। - अनंतशयनम् आयंगार।

Find Us On:

English Hindi
Loading
परिवार की लाड़ली | लघु-कथा (कथा-कहानी) 
Click to print this content  
Author:माधव नागदा

एक साथ तीन पीढ़ियां गांव के बस स्टेण्ड पर बस का इंतजार कर कही थीं| दादी,मां,पिता, बेटा और उसकी नई-नवेली बहू| बस स्टेण्ड हाइवे के किनारे था हालांकि यातायात की कमी नहीं थी लेकिन लोकल बसों की कमी थी| फलस्वरूप लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता था|

समय गुजारने के लिये बेटे ने एक तरीका ढूंढ निकाला| वह आते-जाते ट्रकों के पीछे की लिखावटों को पढ़ने लगा |जरा जोर से ताकि सब सुन लें| कोई रोमांटिक सी बात होती तो बहू की ओर देख कर और जोर से बोलता| बहू घूंघट कुछ ऊपर उठाती नीचे का ओंठ दांतों तले दबाती और सबकी नजरें बचाते हुए पति की ओर आंखें तरेरती| पति को पत्नी के चेहरे की यह लिखावट ट्रक की लिखावट से भी ज्यादा रोमांचित कर देती| उसे इंतजार में भी अनोखा आनंद आने लगा|

अभी-अभी मार्बल से लदा एक ट्रक गुजरा था| ओवरलोड| धीमी रफ्तार| दर्द से कराहता हुआ सा, लिखा था, ‘परिवार की लाडली।' बेटे ने कहा, वो देखो परिवार की लाडली जा रही है और बड़े लाड़ से पत्नी को निहारा|

"हुंह, इतना तो बोझा लाद रखा है और परिवार की लाड़ली!" पत्नी ने व्यंग्य किया|

सासूजी सुन रही थी| उन्होंने तिरछी निगाहों से अपने पति व सास की तरफ देखा, फिर बोली,"इतना बोझा लाद रखा है तभी तो परिवार की लाड़ली है| वरना.....|" बहू ने महसूस किया कि सासूजी की आवाज घुट कर रह गई है|

- माधव नागदा
ई-मेल: madhav123nagda@gmail.com

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश