वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं। - मैथिलीशरण गुप्त।

Find Us On:

English Hindi
Loading
तेरा हाल मुझसे (काव्य) 
Click to print this content  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

तेरा हाल मुझसे जो पूछा किसी ने
न मैं बोल पाया ना तू अब रही है

न घर-घर लगे है ना दिल ही थमे है
कि जिस रोज से माँ मेरी चल बसी है

अभी आ रही हैं तुम्हारी सदाएं
यहीं पर कहीं पर तू जैसे खड़ी है

न उसने बुलाया ना आवाज़ ही दी
पता तब चला घर में माँ ना रही है

-रोहित कुमार 'हैप्पी'

[माँ को सादर समर्पित]

Previous Page  |  Index Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश