परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

Find Us On:

English Hindi
Loading
हम देहली-देहली जाएँगे  (काव्य) 
Click to print this content  
Author:मुमताज हुसैन

हम देहली-देहली जाएँगे
हम अपना हिंद बनाएँगे
अब फौ़जी बनके रहना है
दु:ख-दर्द, मुसीबत सहना है
सुभाष का कहना कहना है
चलो देहली चलके रहना है
हम देहली-देहली जाएँगे।

हम गोली खा के झूमेंगे
हम मौत को बढ़कर चूमेंगे
मतवाले बन आज़ादी के
हम दरिया जंगल घूमेंगे
हम देहली-देहली जाएँगे।

सुभाष हमारा साथी है
और रासबिहारी साथ ही है
फिर कैसा ख़तरा बाकी है
खु़दा हमारा साथी है
हम देहली-देहली जाएँगे।

हम फौजी बन के आएँगे
हम देहली तख़्त सजाएँगे
ज़ालिम फिरंगी क़ौम का
हम नामो-निशां मिटाएँगे
हम देहली-देहली जाएँगे
हम अपना हिंद बनाएँगे।

#

 

गीतकार: मुमताज़ हुसैन,
संगीत : रामसिंह ठाकुर

 

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश