परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

Find Us On:

English Hindi
Loading
गिलहरी  (बाल-साहित्य ) 
Click to print this content  
Author:अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

कहते जिसे गिलहरी हैं सब ।
सभी निराले उसके हैं ढब ॥

पेड़ों से नीचे है आती ।
फिर पेड़ों पर है चढ़ जाती ॥

कुतर कुुतर फल को है खाती ।
बच्चों को है दूध पिलाती ॥

उसकी रंगत भूरी कारी ।
आँंखों को लगती है प्यारी ॥

होती है यह इतनी चंचल ।
कहीं नहीं इसको पड़ती कल ॥

उछल कूद में है यह जैसी ।
दौड धूप में भी है वैसी ॥

बैठी इस धरती के ऊपर ।
दोनों हाथों में कुछ ले कर ।।

जब वह जल्दी से है खाती ।
तब है कैसी भली दिखाती ॥

चिकना चिकना रोआँ इसका ।
लुभा नहीं लेता जी किसका ।।

मत तुम इसको ढेले मारो ।
जा पूरा इतना बात बचा ॥

कहीं इसे जो लग जावेगा ।
तो इसका जी दुःख पावेगा ॥

अब तक सब ने है यह माना ।
जी का अच्छा नहीं दुखाना ॥

- अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश