हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।
हो हो होली (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:होलिका नन्द

हो हो होली
कैसी होली आई, धूल है खूब उड़ाई ;
कैसी होली---

पत्ते सूख सूख कर गिरते, भागी सर्दी माई,
सौड़ लिहाफ़ सुहाता किसको, धूप कड़ी है भाई,
हवा में गर्मी आई।
कैसी होली---

भूख हुई कम, प्यास बढ़ी है, है चाँदनी सुहाई,
लड़के लड़की होली खेलें, अच्छी धूम मचाई।
रंग पिचकारी पाई ।
कैसी होली---

--होलिका नन्द
[बालसखा, 1917]

 

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें