मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
मूर्ख बन्दर और बया (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:विष्णु शर्मा

जंगल में एक वृक्ष पर बहुत से पक्षी रहते थे। सभी पक्षियों ने बरसात का मौसम शुरू होने से पहले ही अपने-अपने घोंसलों की मरम्मत आदि करके उसमें दाना-पानी भर लिया था। जंगल के दूसरे जीवों ने भी वैसा ही प्रबंध कर लिया था।

देखते ही देखते बरसात का मौसम आ गया और मूसलाधार वर्षा होने लगी। सभी पक्षी आराम से अपने घोंसलों में बैठे थे। अचानक न जाने कहाँ से एक बन्दर भीगता हुआ वहाँ आया और एक डाल पर पत्तों की आड़ में दुबक गया। वह ठंड से बुरी तरह कांप रहा था।

वृक्ष पर रहने वाले पक्षियों को उसे देखकर बड़ी दया आई। मगर वे कर ही क्या सकते थे! उनके घोंसले भी इतने बड़े नहीं थे जो वे उसे अपने घोंसलों में उसे पनाह दे देते। जहां सभी पक्षियों को उस पर दया आ रही थी, वहीं बया चिड़िया को क्रोध आ रहा था।

वह सोच रही थी कि कैसे मूर्ख हैं ये बन्दर। ईश्वर ने हाथ पैर दिए हैं। अगर चाहें तो अपने घर बनाकर आराम से रह सकते हैं, मगर इन्हें तो सारा दिन हुड़दंग मचाने से ही फुरसत नहीं मिलती।

आखिर उससे नहीं रहा गया तो वह बोली-'बंदर भइया! हम पक्षियों को देखो। हमें भगवान ने हाथ नहीं दिए, मगर फिर भी हमने अपने-अपने घोंसले बना रखे हैं और सर्दी, धूप या बरसात से अपने बच्चों की रक्षा कर लेते हैं। आपको तो भगवान ने हाथ भी दिए हैं और पांव भी... आप लोग सारा दिन हुड़दंग करते रहते हैं, मगर अपने लिए धूप-बरसात से बचने के लिए घर नहीं बना सकते। कैसी अफसोस की बात है। धिक्कार है आपके जीवन को।'

बया की यह बात सुनते ही बन्दर को क्रोध आ गया। उस मूर्ख ने यह बात नहीं समझी कि बया को उसकी ऐसी हालत देखकर कष्ट हो रहा है, उसने समझा कि बया उसका मजाक उड़ा रही है। बस फिर क्या था। एक ही छलांग में वह बया के घोंसले वाली डाल पर पहुंच गया और क्रोध से थर-थर कांपते हुए बोला-'बया की बच्ची! तू अपने आपको बहुत सयानी समझती है। बड़ा घमंड है तुझे अपने घोंसले पर, तो ले..., ऐसा कहकर उसने झपट्टा मारकर बया का घोंसला तोड़ दिया और जमीन पर फेंक दिया। घोंसले में बैठे बया के छोटे-छोटे बच्चे चीत्कार करने लगे। बया भी जोर-जोर से रोने लगी। कहीं बन्दर दूसरे पक्षियों के घोंसले भी न तोड़ डाले, यह सोचकर सभी पक्षी अपने-अपने घोसलों से निकल आए और उन्होंने बन्दर पर हमला बोल दिया। बन्दर वहाँ से भाग खड़ा हुआ।

शिक्षा: मूर्ख को सलाह मत दो।

-विष्णु शर्मा

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें