आप जिस तरह बोलते हैं, बातचीत करते हैं, उसी तरह लिखा भी कीजिए। भाषा बनावटी न होनी चाहिए। - महावीर प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading
इस दुनिया के रंग निराले (काव्य) 
Click to print this content  
Author:रोहित कुमार हैप्पी

इस दुनिया के रंग निराले
मुँह के मीठे दिल के काले।

यूं तो हरदम हाथ मिलावें
पीठ पे मारें छुरी-भाले।

पत्थर हीरा, हीरा पत्थर
तेरी आँखों में हैं जाले।

जब भी हाथ मिलाए जालिम
हाथों में पड़ ज़ाए छाले।

करना पडता है कुरूक्षेत्र
युद्ध नहीं जब टलता टाले।

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.