हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।
माँ मारेंगी !  (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:रघुवीर शरण

अगर हाथ देंगे नाली में, माँ मारेंगी ।
अगर साथ देंगे गाली में माँ मारेंगी ॥
कपड़े मैले नहीं करेंगे, माँ मारेंगी ।
मिट्टी सर में नहीं भरेंगे, माँ मारेंगी ।

लेते नहीं उधार किसी से, माँ मारेंगी ।
करें नहीं तकरार किसी से, माँ मारेगी ।।
अगर तोड़ते रहे खाट तो, माँ मारेंगी ।
अगर खेल के रहे ठाठ तो, माँ मारेंगी ॥

अगर किसी को तंग करा तो, माँ मारेंगी ।
जेबों में यदि रंग भरा तो, माँ मारेंगी ।।
नहीं किया यदि याद पाठ तो, माँ मारेंगी !
ली मटरे की अगर चाट तो, माँ मारेगी ।

रघुवीर शरण [1948]
[भारत-दर्शन शोध स्वरूप]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें