हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।
नकली और असली  (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:अरुण प्रकाश 'विशारद'

नकली आँखें बीस लगा ले,
अँधा देख न सकता है।
मनों पोथियाँ बगल दबा ले,
मूरख सोच न सकता है ॥

लदे पीठ पर नित्य सरंगी,
गदहा राग न कह सकता।
चाहे जितना पान चबा ले,
भैंसा स्वाद न लह सकता ॥

नहीं चढ़ाकर कोरी कलई,
तांबा बन सकता सोना ।
नहीं मोर के पंखे पाकर,
कौवे का मिटता रोना ॥

नकल व्यर्थ की करता है जो,
सदा अन्त में रोता है।
बिना गुणों के नहीं जगत में,
मान किसी का होता है ॥

- अरुण प्रकाश 'विशारद' 
[शिशु, सितंबर 1925, संपादक: सुदर्शनाचार्य, सुदर्शन प्रेस, प्रयाग]

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें