यदि स्वदेशाभिमान सीखना है तो मछली से जो स्वदेश (पानी) के लिये तड़प तड़प कर जान दे देती है। - सुभाषचंद्र बसु।
 
चाँद की सैर  (बाल-साहित्य )     
Author:डॉ सुशील शर्मा

डब्बू ने इक सपना देखा
चाँद सैर पर जाने का।
उड़ता हुआ चाँद पर पहुँचा
बड़ा मज़ा उड़ जाने का।

लेकिन जब वो चाँद पे पहुँचा
वहाँ पड़ा पूरा सुनसान।
न घर थे न बाग़ बगीचे
मौसम भी खुद से अनजान

बड़े बड़े मिट्टी के टीले
उबड़ खाबड़ रस्ते थे
न पंछी न कोई जानवर
न पढ़ाई के बस्ते थे।

हवा वहाँ नहीं चलती थी
न बादल न रँग थे।
न नदियाँ न झरने सुंदर
न ही मित्र कोई सँग थे।

न मम्मी न पापा दिखते
न भोजन न पानी
डब्बू बाबा लगे सिसकने
याद आ गई नानी।

फिर धीरे से मम्मी ने
डब्बू को पुचकारा।
सपना टूटा आँख खुली
मम्मी से लिपटा बेचारा।

एक ह्रदय का टुकड़ा होता
दूजा जीवन की पहचान।

-डॉ सुशील शर्मा, भारत
 ईमेल-archanasharma891@gmail.com

Previous Page  |  Index Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश