मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
 
भारत में फंसे न्यूजीलैंडवासियों को वापस लाएगी सरकार (विविध)     
Author:भारत-दर्शन समाचार

13 अप्रैल 2020 (न्यूजीलैंड): न्यूजीलैंड के विदेश मामलों के मंत्री 'विंस्टन पीटर्स' ने घोषणा की है कि सरकार न्यूजीलैंड के लोगों को भारत से घर लाएगी।

"भारत में न्यूजीलैंड के लोगों ने चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना किया है और पूर्ण लॉकडाउन के तहत एक देश से घर लौट पाना बहुत मुश्किल काम है," पीटर्स ने कहा।

उन्होंने कहा, "सरकार भारत में फंसे न्यूजीलैंडवासियों को घर लौटने में मदद करने के लिए एयरलाइंस और अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ चर्चा कर रही है। वर्तमान लॉकडाउन में न्यूजीलैंडवासियों  के बड़ी संख्या में भारत के विभिन्न स्थानों में होने के कारण यह एक गंभीर जटिल प्रयास है। हालांकि, हम अच्छी प्रगति कर रहे हैं," पीटर्स ने कहा।

"हम भारत में फंसे सभी न्यूजीलैंडर को घर लौटने के लिए सरकारी सहायता प्राप्त उड़ानों को गंभीरता से लेने पर विचार करने का अनुरोध कर रहे हैं। इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानें (Commercial Flights ) कब दुबारा आरम्भ होंगी।न्यूजीलैंड के लोगों को अल्पावधि में ऐसा होने पर भरोसा नहीं करना चाहिए।"

भारत ने 22 मार्च को अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी, और देश 25 मार्च से लॉकडाउन में है, जिससे  भारत में गए न्यूजीलैंडवासियों के पास कोई उड़ान विकल्प नहीं रह गया। फंसे हुए न्यूजीलैंड के लोगों को भारत से किसी भी सरकारी सुविधा वाली उड़ानों की लागत में योगदान करना होगा, और यह लागत पेरू जैसे अन्य स्थानों से हाल ही में सरकारी सहायता प्राप्त प्रस्थानों के सामान होगी।

"कोविड महामारी के चलते न्यूजीलैंड ने अब तक की सबसे बड़ी कांसुलर प्रतिक्रिया की है, और समाधान खोजने के लिए महत्वपूर्ण प्रयासों और सरकारी सहायता पर ध्यान केंद्रित किया हुआ है।"

"हम जानते हैं कि न्यूजीलैंड के कई स्थानों पर चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। हम लगातार वैश्विक स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और विदेश में जहाँ भी न्यूजीलैंडवासी इससे प्रभावित हैं, उनकी निगरानी कर रहे हैं, "श्री पीटर्स ने कहा।

[भारत-दर्शन समाचार ]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश