मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
 
न्यूज़ीलैंड में हिंदी पत्रकारिता का इतिहास (विविध)     
Author:भारत-दर्शन समाचार

न्यूज़ीलैंड (07 फरवरी 2020) : भारत-दर्शन के सम्पादक ने 'न्यूज़ीलैंड में हिंदी पत्रकारिता का इतिहास' पुस्तिका न्यूज़ीलैंड में भारत के मानद कौंसिल भाव ढिल्लो को भेंट करके ऑकलैंड में इसका विमोचन किया। इस पुस्तक में 1930 से अब तक का इतिहास उपलब्ध करवाया गया है। इसे भारत-दर्शन के संपादक रोहित कुमार हैप्पी ने लिखा है।

9 जनवरी को वैलिंग्टन में प्रवासी दिवस व विश्व हिंदी दिवस के उपलक्ष में आयोजित एक कार्यक्रम में भारत के उच्चायुक्त मुक्तेश परदेशी ने 'न्यूज़ीलैंड में हिंदी पत्रकारिता का इतिहास' पुस्तक का औपचारिक विमोचन किया था।  यह पुस्तक ई-बुक के रूप में भारत-दर्शन की वैब साइट पर उपलब्ध है।  

[भारत-दर्शन समाचार]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश