मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
 
मोटा लाला (बाल-साहित्य )     
Author:नमित कालरा

मोटा लाला, मोटा लाला
आ गए अपना पेट फुला कर
जब देखो तुम खाते रहते
बर्गर, समोसा मज़े ले-ले कर।

खाओ उतना जितनी भूख
छोड़ कर के 'जंक फ़ूड'।
हरी सब्ज़ी और दालों से
सदा रहोगे मस्त और स्वस्थI

-नमित कालरा (कक्षा 4), भारत
 ई-मेल: namitkalra2011@gmail.com

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश