भाषा का निर्माण सेक्रेटरियट में नहीं होता, भाषा गढ़ी जाती है जनता की जिह्वा पर। - रामवृक्ष बेनीपुरी।
 
मूर्ख मित्र (बाल-साहित्य )     
Author:भारत-दर्शन संकलन

किसी राजा के राज्य में एक बहुत बलवान बंदर था। वह बड़े-बड़े योद्धाओं को मत देता था। राजा ने उसकी ख्याति सुनी तो उसे अपना अंगरक्षक रख लिया। वह बंदर राजा के सेवक के रुप में महल मे रहने लगा। धीरे-धीरे वह राजा का विश्वास-पात्र बन गया। बंदर बहुत स्वामीभक्त था । अन्तःपुर में भी वह बेरोक-टोक जा सकता था ।

एक दिन जब राजा सो रहा था और बंदर उसे पंखे से हवा झोल रहा था तो बन्दर ने देखा, एक मक्खी बार-बार राजा की गर्दन पर बैठ जाती थी। पंखे से बार-बार हटाने पर भी वह उड़कर फिर वहीं बैठी जाती थी ।

बंदर को क्रोध आ गया। उसने पंखा छोड़ कर हाथ में तलवार ले ली; और इस बार जब मक्खी राजा की गर्दन पर बैठी तो उसने पूरे बल से मक्खी पर तलवार से प्रहार किया। मक्खी तो उड़ गई, किन्तु राजा की गर्दन तलवार के वर से धड़ से अलग हो गई। राजा वहीं ढेर हो गया। स्वामीभक्त बंदर को पछतावा हो रहा था किन्तु वह अब राजा को जीवित तो नहीं कर सकता था!

सीख: मूर्ख मित्र से बुद्धिमान शत्रु अच्छा!

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश