शिक्षा के प्रसार के लिए नागरी लिपि का सर्वत्र प्रचार आवश्यक है। - शिवप्रसाद सितारेहिंद।

Find Us On:

English Hindi
ऐसा नहीं कि... (काव्य) 
   
Author:रोहित कुमार हैप्पी

ऐसा नहीं कि कोई सवालात नहीं हैं
मुंह खोलने के बस बचे हालत नहीं हैं

रंजिश कोई उससे मेरी तकरार नहीं है
बस उसके-मेरे एक ख़यालात नहीं हैं

कहने को वे कहते हैं कोई बात नहीं है
दोनों के बीच पहले-से जज़्बात नहीं हैं

जब रास्ते बदले तो बहुत कुछ बदल गया
दिल में दीवारें उठती यूं बेबात नहीं हैं

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश