हमारी नागरी दुनिया की सबसे अधिक वैज्ञानिक लिपि है। - राहुल सांकृत्यायन।

Find Us On:

English Hindi

सबके अपने-अपने ग़म

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 रेखा राजवंशी | ऑस्ट्रेलिया

सबके अपने-अपने ग़म
कुछ के ज़्यादा, कुछ के कम

दिल पे ऐसी गुज़री है
आँख भरीं, पलकें हैं नम

अब के भी तुम न आए
बीत गए कितने मौसम

तारा कोई टूटा है
फिर से है चश्मे पुरनम

कोई तो बादल बरसे
बन जाए दर्दे मरहम

कुछ ऐसी भी बात करो
मिल जाए लुत्फ़-ए-पैहम

दिल की दिल से राह बने
कुछ ऐसा भी हो आलम

- रेखा राजवंशी
  ऑस्ट्रेलिया

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश