शिक्षा के प्रसार के लिए नागरी लिपि का सर्वत्र प्रचार आवश्यक है। - शिवप्रसाद सितारेहिंद।

Find Us On:

English Hindi

ग़ज़लें

ग़ज़ल क्या है? यह आलेख उनके लिये विशेष रूप से सहायक होगा जिनका ग़ज़ल से परिचय सिर्फ पढ़ने सुनने तक ही रहा है, इसकी विधा से नहीं। इस आधार आलेख में जो शब्‍द आपको नये लगें उनके लिये आप ई-मेल अथवा टिप्‍पणी के माध्‍यम से पृथक से प्रश्‍न कर सकते हैं लेकिन उचित होगा कि उसके पहले पूरा आलेख पढ़ लें; अधिकाँश उत्‍तर यहीं मिल जायेंगे। एक अच्‍छी परिपूर्ण ग़ज़ल कहने के लिये ग़ज़ल की कुछ आधार बातें समझना जरूरी है। जो संक्षिप्‍त में निम्‍नानुसार हैं: ग़ज़ल- एक पूर्ण ग़ज़ल में मत्‍ला, मक्‍ता और 5 से 11 शेर (बहुवचन अशआर) प्रचलन में ही हैं। यहॉं यह भी समझ लेना जरूरी है कि यदि किसी ग़ज़ल में सभी शेर एक ही विषय की निरंतरता रखते हों तो एक विशेष प्रकार की ग़ज़ल बनती है जिसे मुसल्‍सल ग़ज़ल कहते हैं हालॉंकि प्रचलन गैर-मुसल्‍सल ग़ज़ल का ही अधिक है जिसमें हर शेर स्‍वतंत्र विषय पर होता है। ग़ज़ल का एक वर्गीकरण और होता है मुरद्दफ़ या गैर मुरद्दफ़। जिस ग़ज़ल में रदीफ़ हो उसे मुरद्दफ़ ग़ज़ल कहते हैं अन्‍यथा गैर मुरद्दफ़।

Article Under This Catagory

यह दिल क्या है देखा दिखाया हुआ है  - त्रिलोचन

यह दिल क्या है देखा दिखाया हुआ है
मगर दर्द कितना समाया हुआ है

 
फिर तेरी याद - त्रिलोचन

फिर तेरी याद जो कहीं आई
नींद आने को थी नहीं आई

 
हाथ में हाथ मेरे | ग़ज़ल - रोहित कुमार 'हैप्पी'

हाथ में हाथ मेरे थमा तो जरा
हम कदम हमको अपना बना तो जरा

 
घर-सा पाओ चैन कहीं तो |ग़ज़ल  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

घर-सा पाओ चैन कहीं तो हमको भी बतलाना तुम
हमसा कोई और दिखे तो जरा हमें दिखलाना तुम

 
लूट मची है चारों ओर | ग़ज़ल  - राहत इंदौरी

लूट मची है चारों ओर, सारे चोर
इक जंगल और लाखों मोर, सारे चोर

 
क्या ख़ास क्या है आम - हस्तीमल हस्ती

क्या ख़ास क्या है आम ये मालूम है मुझे
किसके हैं कितने दाम ये मालूम है मुझे

 
जहाँ जाते हैं हम... -  उदय प्रताप सिंह

जहाँ जाते हैं हम कोई कहानी छोड़ जाते हैं
ज़रा सा प्यार थोड़ी सी जवानी छोड़ आते हैं

 
ढूँढा है हर जगह पे... - हस्तीमल हस्ती

ढूँढा है हर जगह पे कहीं पर नहीं मिला
ग़म से तो गहरा कोई समुंदर नहीं मिला

 
मत पूछिये क्यों... - शेरजंग गर्ग

मत पूछिये क्यों पाँव में रफ़्तार नहीं है
यह कारवाँ मज़िल का तलबग़ार नहीं है

 
आँखों में रहा.. - बशीर बद्र

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा

 
अगर हम कहें... - सुदर्शन फ़ाकिर

अगर हम कहें और वो मुस्कुरा दें
हम उन के लिए ज़िंदगानी लुटा दें

 
ये किसने भीड़ में - श्याम ‘निर्मम'

ये किसने भीड़ में लाकर अकेला छोड़ दिया
मेरा तमाम सफ़र हादसों से जोड़ दिया

 
अपने होने का पता  - विजयकुमार सिंघल

अपने होने का पता मिलता नहीं
आजकल वो बेवफ़ा मिलता नहीं

 
मन रामायण जीवन गीता - सोम अधीर

मन रामायण जीवन गीता
यह घट आधा वह घट रीता

 
तू है बादल - लक्ष्मी शंकर वाजपेयी ब्लॉग

तू है बादल
तो, बरसा जल

 

 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश