यदि हम अंग्रेजी दूसरी भाषा के समान पढ़ें तो हमारे ज्ञान की अधिक वृद्धि हो सकती है। - जगन्नाथप्रसाद चतुर्वेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading
प्यारे बच्चो | बाल कविता (बाल-साहित्य )    Print  
Author:डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'
 

सुबह सवेरे उठकर बच्चो!
मात-पिता को शीश नवाओ ।
दातुन कुल्ला करके प्रतिदिन,
मुँह की बदबू दूर भगाओ ।


तन को स्वस्थ बना रखने को,
नित व्यायाम करो हल्का-सा ।
ताजे़ जल से रोज नहाकर,
कुछ क्षण नाम जपो ईश्वर का ।


कभी न गंदे वस्त्र पहनना,
सदा साफ़ औ' सुथरे रहना ।
अच्छे कहलाना चाहो तो,
करना सदा बड़ों का कहना ।


झूठ बनाना पड़ता बच्चो!
सच्चाई है बनी बनाई ।
सदा सत्य ही जो कहता है,
मिलती जग में उसे बड़ाई ।


सदा लगाओ मन पढ़ने में,
कभी न पढ़ने से मुँह मोडो ।
डरो नहीं तुम कभी किसी से,
कभी नहीं साहस को छोड़ो ।

-डा राणा प्रताप सिंह 'राणा'

[मीठे बोल]

 

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
  Captcha