भय ही पराधीनता है, निर्भयता ही स्वराज्य है। - प्रेमचंद।

Find Us On:

English Hindi
Loading
पीर  (काव्य)    Print  
Author:डॉ सुधेश
 

हड्डियों में बस गई है पीर ।

पाँव में काँटा लगा जैसे
जो बढ़ते क़दम को रोके
मगर इस का क्या करूँ
जो गई मेरी हड्डियों को चीर ।

दुख की रात का होता सवेरा
मगर इस का हर घडी डेरा
कौन से मनहूस पल में
किसी दुश्मन ने लिखी तक़दीर ।

क्या सजा है इस जनम की
या इस जनम में पाले भरम की
ख़्वाहिशों के पाँव में बाँधी
किस ने दु:ख की ज़ंजीर ।

- डॉ॰ सुधेश 
  314 सरल अपार्टमैंट्स, द्वारका, सैक्टर 10
  दिल्ली 110075 
  फ़ोन 9350974120
  ई-मेल: dr.sudhesh@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
  Captcha