यदि हम अंग्रेजी दूसरी भाषा के समान पढ़ें तो हमारे ज्ञान की अधिक वृद्धि हो सकती है। - जगन्नाथप्रसाद चतुर्वेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading
कितना अच्छा होता न तब | बाल कविता (बाल-साहित्य )    Print  
Author:दिविक रमेश
 

सब कहीं ले जा सकते हम!
कितना अच्छा होता न तब?

और समुद्र सिर पर ढ़ोकर
सब कहीं ले जा सकते हम!
कितना अच्छा होता न तब?

अगर स्कूलों को रहड़ा कर
सब कहीं ले जा सकते हम!
कितना अच्छा होता न तब?

जो कुछ भी है इस धरती का
अगर सभी का कर सकते हम!
कितना अच्छा होता न तब?

पर कितने छोटू हैं हम तो
हाथ भी देखो कितने छोटे!
अगर मदद कर देता कोई
कितना खुश हम भी हो लेते।

कितना अच्छा होता न तब?

-दिविक रमेश

[Children's Hindi Poems by Divik Ramesh]

 

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
  Captcha