अकबर से लेकर औरंगजेब तक मुगलों ने जिस देशभाषा का स्वागत किया वह ब्रजभाषा थी, न कि उर्दू। -रामचंद्र शुक्ल

Find Us On:

English Hindi
Loading
भाई दूज (काव्य)    Print  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'
 

भैया दूज

भाई-बहन का यह त्योहार
इसमें छुपा हुआ है प्यार।

इक-दूजे पर करते नाज़
भैया दूज आ गयी आज।

माथे पर चन्दन का टीका
बहन बिना सब होता फीका।

भैया तुझको तिलक लगा दूँ
चन्दा-सूरज तुझे दिला दूँ।

यह रिश्तों की है सौग़ात
याद रहे अम्मा की बात।

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
  Captcha