यदि स्वदेशाभिमान सीखना है तो मछली से जो स्वदेश (पानी) के लिये तड़प तड़प कर जान दे देती है। - सुभाषचंद्र बसु।
 
किसी के दुख में .... | ग़ज़ल  (काव्य)       
Author:ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek

किसी के दुख में रो उट्ठूं कुछ ऐसी तर्जुमानी दे
मुझे सपने न दे बेशक, मेरी आंखों को पानी दे

मुझे तो चिलचिलाती धूप में चलने की आदत है
मेरे भगवान, मेरे शहर को शामें सुहानी दे

ये रद्दी बीनते बच्चे जो गुम कर आए हैं सपने
किसी दिन के लिए तू इनको परियों की कहानी दे

ख़ुदाया, जी रहा हूं यूं तो मैं तेरे ज़माने में
चराग़ों की तरह मिट जाऊं ऐसी ज़िन्दगानी दे

जिसे हम ओढ़ के करते थे अकसर प्यार की बातें
तू सबकुछ छीन ले मेरा वही चादर पुरानी दे

मेरे भगवान, तुझसे मांगना अच्छा नहीं लगता
अगर तू दे सके तो ख़ुश्क दरिया को रवानी दे

यहां इंसान कम, ख़रीदार आते हैं नज़र ज्यादा
ये मैंने कब कहा था मुझको ऐसी राजधानी दे।

-ज्ञानप्रकाश विवेक

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश