भाषा का निर्माण सेक्रेटरियट में नहीं होता, भाषा गढ़ी जाती है जनता की जिह्वा पर। - रामवृक्ष बेनीपुरी।
 
अब अँधेरों से लिपटकर | ग़ज़ल  (काव्य)       
Author:भावना कुँअर | ऑस्ट्रेलिया

अब अँधेरों से लिपटकर यूँ ना रोया कीजिए
हो घड़ी भर के लिए पर, कुछ तो सोया कीजिए

बन्द रहने दो ये आँसू,अपने दिल की सीप में
कीमती मोती हैं ये, इनको ना खोया कीजिए

यूँ सफर ये जिंदगी का,है बहुत मुश्किल मगर
साथ में मिल के जिए जो, पल सँजोया कीजिए

बंद आँखों में सजे, सपनों के हैं बादल घने
आँसुओं की धार से, उनको ना धोया कीजिए

उग रही हो पौध जब आँतक की ही हर तरफ़
उस जमी पर प्यार के कुछ, बीज बोया कीजिए

-डॉ० भावना कुँअर
 सिडनी (ऑस्ट्रेलिया)

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश