भाषा का निर्माण सेक्रेटरियट में नहीं होता, भाषा गढ़ी जाती है जनता की जिह्वा पर। - रामवृक्ष बेनीपुरी।
 
किसी की आँख में आँसू | ग़ज़ल  (काव्य)       
Author:भावना कुँअर | ऑस्ट्रेलिया

किसी की आँख में आँसू, किसी की आँख में सपने
पराए हैं कहीं घर के, कहीं अनजान भी अपने

बिछाई राह में तुमने, भले शीतल हवाएँ हों
पड़े हैं अनगिनत छाले, लगें हैं पाँव भी थकने।

पड़ा जब दुःख भरा साया, कोई भी पास ना आया
हुआ जो नाम उनका तो, लगे दिन रात हैं जपने

तपी धरती पे चलने का, हुनर हमको बहुत है पर
चले जब आज छाया में, लगे हैं पाँव क्यूँ तपने

बनाया था जिन्हें हमने, क़लम की दी जिन्हें ताक़त
वही अब भूल बैठे हैं, लगे हैं आज जब छपने

अंधेरी रात में लेकर बड़े नाख़ून वो निकलें
डरी हिरणी सी काँपी थी, चली थी उनसे मैं बचने

-डॉ० भावना कुँअर
 सिडनी (ऑस्ट्रेलिया)

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश