बिना मातृभाषा की उन्नति के देश का गौरव कदापि वृद्धि को प्राप्त नहीं हो सकता। - गोविंद शास्त्री दुगवेकर।

Find Us On:

English Hindi
आज के हाइकु (काव्य)     
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

भूख-गरीबी
करा देती है दूर
बड़े करीबी।

#

औढ़ू, बिछाऊं
भाषण तुम्हारा ये
किसे खिलाऊँ?

#

सेवक भाई!
भाषण देता नहीं,
रोटी-कपड़ा!

#

जाने दे यार
देखा है हमने भी
नेताई प्यार।

#

सुनाता है तू
भूखे को कोई राग
दे रोटी-साग!

#

सपने अच्छे हैं
लेने-देने को पर...
पेट भरेंगे?

#

भाषण, नारे
और कुछ जलसे
क्या करते हैं?
 
#

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश