देहात का विरला ही कोई मुसलमान प्रचलित उर्दू भाषा के दस प्रतिशत शब्दों को समझ पाता है। - साँवलिया बिहारीलाल वर्मा।

Find Us On:

English Hindi
Loading
राजर्षि टंडन जयंती | 1 अगस्त
Click To download this content    
 

राजर्षि पुरूषोत्तम दास टंडन हिन्दी भाषा के सेवक, पत्रकार, वक्ता भारतीय स्वतन्त्रता सेनानी, राजनयिक, और समाज सुधारक थे।

भारत के संविधान में हिंदी को जो स्थान मिला उसमें टंडन जी की महत्वपूर्ण भूमिका थी। जिस समय संविधान-सभा में देश की राज-भाषा का प्रश्न उठा और वह जटिल रूप धारण कर रहा था, उस समय हिंदी का नेतृत्व टंडन जी ही कर रहे थे।

Tandan ji

 

रामधारीसिंह दिनकर आपके बारे में लिखते हैं:

"जन-हित निज सर्वस्व दान कर तुम तो हुए अशेष;
क्या देकर प्रतिदान चुकाए ॠषे! तुम्हारा देश?"

 

 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश