शिक्षा के प्रसार के लिए नागरी लिपि का सर्वत्र प्रचार आवश्यक है। - शिवप्रसाद सितारेहिंद।

Find Us On:

English Hindi
Loading

Author's Collection

[First] [Prev] 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 [Next] [Last]

Total Number Of Record :66
पागल

शहर में सब जानते थे कि वो पागल है। जब-तब भाषण देने लगता, किसी पुलिस वाले को देख लेता तो कहने लगता, 'ये ख़ाकी वर्दी में लुटेरे हैं। ये रक्षक नहीं भक्षक हैं। गरीब जनता को लूटते हैं। सरकार ने इन्हें लूटने का लाइसेंस दे रखा है। ये लुटेरे पकड़ेंगे, चोर पकड़ेंगे...., ये तो खुद चोर हैं, लुटेरे हैं ये!

...

More...
पारस पत्थर

'एक बहुत गरीब आदमी था। अचानक उसे कहीं से पारस-पत्थर मिल गया। बस फिर क्या था! वह किसी भी लोहे की वस्तु को छूकर सोना बना देता। देखते ही देखते वह बहुत धनवान बन गया।' बूढ़ी दादी माँ अक्सर 'पारस पत्थर' वाली कहानी सुनाया करती थी। वह कब का बचपन की दहलीज लांघ कर जवानी में प्रवेश कर चुका था किंतु जब-तब किसी न किसी से पूछता रहता, "आपने पारस पत्थर देखा है?"

...

More...
विडम्बना | लघु-कथा

मेरे एक मित्र को जब भी अवसर मिलता है अँग्रेज़ी भाषा व अँग्रेज़ी बोलने वालों को आड़े हाथों लेना नहीं भूलते । 

एक दिन कहने लगे, "यार, तुम अपनी राइटिंग (लेखन) में अँग्रेज़ी वर्ड (शब्द) मत यूज़ किया करो। क्या कभी रिडर्स (पाठकों) नें इस बारे में कम्पलेन (शिकायत) नहीं की?

...

More...
आओ होली खेलें संग

कही गुब्बारे सिर पर फूटे
पिचकारी से रंग है छूटे
हवा में उड़ते रंग
कहीं पर घोट रहे सब भंग!

बुरा ना मानो होली है
हाँ जी, हाँ जी, होली है
करते बच्चे-बूढ़े तंग
बताओ कैसा है ये ढंग?   

भाग रहा है आज कन्हैया
...

More...
श्रमिक दिवस पर दो हाइकु

ये मज़दूर
कितना मजबूर
घर से दूर!

#

करता श्रम
आएंगे अच्छे दिन
पाले है भ्रम!

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

...
More...
हिंदी पर दोहे

बाहर से तो पीटते, सब हिंदी का ढोल।
अंतस में रखते नहीं, इसका कोई मोल ।।

एक बरस में आ गई, इनको हिंदी याद।
भाषण-नारे दे रहे, दें ना पानी-खाद ।।

अपनी मां अपनी रहे, इतना लीजे जान ।
उसको मिलना चाहिए, जो उसका सम्मान ।।

...

More...
वो था सुभाष, वो था सुभाष

वो भी तो ख़ुश रह सकता था
महलों और चौबारों में।
उसको लेकिन क्या लेना था,
तख्तों-ताज-मीनारों से!
         वो था सुभाष, वो था सुभाष!

अपनी माँ बंधन में थी जब,
कैसे वो सुख से रह पाता!
रण-देवी के चरणों में फिर
...

More...
ऐसे थे रहीम

रहीम दान देते समय आँख उठाकर ऊपर नहीं देखते थे। याचक के रूप में आए लोगों को बिना देखे, वे दान देते थे। अकबर के दरबारी कवियों में महाकवि गंग प्रमुख थे। रहीम के तो वे विशेष प्रिय कवि थे। एक बार कवि गंग ने रहीम की प्रशंसा में एक छंद लिखा, जिसमें उनका योद्धा-रूप वर्णित था। इसपर प्रसन्न होकर रहीम ने कवि को छत्तीस लाख रुपए भेंट किए।

...

More...
हम भी काट रहे बनवास

हम भी काट रहे बनवास
जावेंगे अयोध्या नहीं आस

पडूं रावण पर कैसे मैं भारी
नहीं लक्ष्मण भी है मेरे पास

यहाँ रावण-विभीषण हैं साथ
करूं लँका का कैसे मैं नास

कौन फूँकेगा सोने की लँका
यहाँ है कहाँ हनुमन-सा दास

...

More...
बाबा | हास्य कविता

दूर बस्ती से बाहर
बैठा था एक फ़क़ीर
पेट से भूखा था
तन कांटे सा सूखा था।

बस्ती में फ़क़ीर की ऐसी हवा है
कहते हैं -
बाबा के पास हर मर्ज़ की दवा है।

आस-पास मिलने वालों की भीड थी
कोई लाया फूल, किसी के डिब्बे मे खीर थी।

फ़क़ीर से माँग रहे थे वे सब
...

More...
[First] [Prev] 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 [Next] [Last]

Total Number Of Record :66

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश