हिंदी जाननेवाला व्यक्ति देश के किसी कोने में जाकर अपना काम चला लेता है। - देवव्रत शास्त्री।

Find Us On:

English Hindi
Loading

अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' | Ayodhya Singh Upadhyaya Hariaudh

अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' का जन्म 15 अप्रैल 1865 को निज़ामाबाद (आज़मगढ़) में हुआ। आपके पिता का नाम पंडित भोलानाथ उपाध्याय था। सिख धर्म अपनाने के बाद भोलानाथ का नामकरण भोलासिंह हो गया। माता का नाम रुक्मणि देवी था। अस्वस्थता के कारण हरिऔध जी का विद्यालय की नियमित पढ़ाई छोड़कर घर पर ही उर्दू, संस्कृत, फारसी, बंगला, पंजाबी एवं अंग्रेजी का अध्ययन करना पड़ा।

1883 में ये निजामाबाद के मिडिल स्कूल के हेडमास्टर हो गए। 1890 में कानूनगो की परीक्षा पास करने के बाद आप कानूनगो बने। 1923 में पदावकाश के पश्चात काशी हिंदू विश्वविद्यालय में प्राध्यापक बन गए।

16 मार्च 1947 को आपका निधन हो गया।


सृजन:

आप खड़ी बोली के प्रथम महाकाव्यकार थे। हरिऔध भारतेन्दु युग, द्विवेदी युग और छायावादी युग तीनों में सृजनरत रहे।

हिन्दी कविता के विकास में 'हरिऔध' की महत्तवपूर्ण भूमिका रही है। 'प्रियप्रवास' संस्कृत वर्णवृत्त में करके जहाँ आपने खड़ी बोली को पहला महाकाव्य दिया, वहीं आम बोलचाल में 'चोखे चौपदे' व 'चुभते चौपदे' रचकर उर्दू की मुहावरेदारी का सशक्त प्रयोग किया। 'प्रियप्रवास' और 'वैदेही वनवास' आपके महाकाव्य हैं। चोखे चौपदे, चुभते चौपदे, कल्पलता, बोलचाल, पारिजात और हरिऔध सतसई मुक्तक काव्य की श्रेणी में आते हैं। 'ठेठ हिंदी का ठाठ' और 'अधखिला फूल' जैसे उपन्यास भी लिखे।

इनकी अन्य महत्वपूर्ण रचनाएँ हैं- 'वैदेही-वनवास', 'प्रेमाम्बु-प्रवाह' और ब्रजभाषा में लिखा 'रस कलश'।

 

Author's Collection

Total Number Of Record :4
खेलो रंग अबीर उडावो - होली कविता

खेलो रंग अबीर उड़ावो लाल गुलाल लगावो ।
पर अति सुरंग लाल चादर को मत बदरंग बनाओ ।
न अपना रग गँवाओ ।

जनम-भूमि की रज को लेकर सिर पर ललक चढ़ाओ ।
पर अपने ऊँचे भावो को मिट्टी में न मिलाओ ।
न अपनी धूल उड़ाओ ।

प्यार उमंग रंग में भीगो सुन्दर फाग मचाओ ।
...

More...
कर्मवीर

देख कर बाधा विविध  बहु विघ्न घबराते नहीं
रह भरोसे भाग्य के दुःख भोग पछताते नहीं
काम कितना ही कठिन हो किन्तु उकताते नहीं
भीड़ में चंचल बने जो वीर दिखलाते नहीं
हो गये एक आन में उनके बुरे दिन भी भले
...

More...
एक बूँद | Ek Boond

एक बूँद

ज्यों निकल कर बादलों की गोद से
थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी।
सोचने फिर-फिर यही जी में लगी,
आह ! क्यों घर छोड़कर मैं यों कढ़ी ?

देव मेरे भाग्य में क्या है बदा,
मैं बचूँगी या मिलूँगी धूल में ?
...

More...
फूल और काँटा | Phool Aur Kanta

हैं जनम लेते जगह में एक ही,
एक ही पौधा उन्हें है पालता।
रात में उन पर चमकता चांद भी,
एक ही सी चांदनी है डालता।।

मेह उन पर है बरसता एक-सा,
एक-सी उन पर हवाएं हैं बहीं।
पर सदा ही यह दिखाता है हमें,
...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश