क्या संसार में कहीं का भी आप एक दृष्टांत उद्धृत कर सकते हैं जहाँ बालकों की शिक्षा विदेशी भाषाओं द्वारा होती हो। - डॉ. श्यामसुंदर दास।

Find Us On:

English Hindi
Loading

फादर कामिल बुल्के

फादर कामिल बुल्के (1 सितम्बर 1909 -7 अगस्त 1982)

फादर कामिल बुल्के हिंदी के एक ऐसे समर्पित सेवक रहे, जिसकी मिसाल आज भी दी जाती है। उनका जन्म 1 सितम्बर 1909 को बेल्जियम के रामस्कापले गाँव में हुआ था। अपने युवा दिनों में उन्होंने संन्यासी बनने का फैसला लिया और भारत की तरफ रुख किया। यहां वह रांची में आकर एक स्कूल में पढ़ाने लगे। खुद इंजिनियरिंग के स्टूडेंट रहे कामिल बुल्के भारत की बोली-बानी में ऐसे रमे कि न सिर्फ हिंदी, बल्कि ब्रज, अवधी और संस्कृत भी सीखी।

बुल्के भारत आने से पहले इंजीनियरिंग में स्नातक थे। आपने कोलकाता से संस्कृत में एम ए किया तथा इलाहाबाद से हिंदी में एम ए किया। 'रामकथा उत्पत्ति एवं विकास' पर इलाहाबाद विश्व विद्यालय से पीएच डी की। फिर राँची में रहकर अपना सम्पूर्ण जीवन हिंदी सेवा में लगा दिया। 1974 में पद्मभूषण से अलंकृत 'बुल्के' भारत में ही नहीं अपितु पूरे विश्व में रामकथा के विषय-विशेषज्ञ के रूप में जाने गए।

'राम कथा की उत्पत्ति' पर उनका शोध सर्वाधिक प्रामाणिक शोध माना जाता हकाई। आप सेंट जेवियर कॉलेज, रांची में हिंदी और संस्कृत के विभागाध्यक्ष भी रहे।

कामिल बुल्के के हिन्दी- अंग्रेजी शब्दकोष से तो सभी परिचित हैं। यह उनका परिश्रम और लगन ही था कि उस शब्दकोश में 40 हजार से अधिक शब्द आए। कामिल बुल्के की अंग्रेजी और यूरोपीय भाषाओं के ज्ञान का हिंदी को लाभ मिला और यह शब्दकोश इतना प्रामाणिक बन गया कि आज भी किसी शब्द पर विवाद होने पर लोग कामिल बुल्के की डिक्शनरी देखते हैं। भारत जैसे धर्मबहुल देश में उन्होने बाइबल का हिंदी में अनुवाद किया। उन्होंने लिखा है, 'ईश्वर का धन्यवाद, जिसने मुझे भारत भेजा और भारत के प्रति धन्यवाद, जिसने मुझे इतने प्रेम से अपनाया।

7 अगस्त, 1982 को फादर बुल्के का निधन हो गया। हिंदी सेवा के लिए उन्हें भारत के सवोर्च्च नागरिक सम्मनों में से एक 'पद्मभूषण' से सम्मानित किया गया।

Author's Collection

Total Number Of Record :0 Total Number Of Record :0

सब्स्क्रिप्शन

Captcha Code

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश