पराधीनता की विजय से स्वाधीनता की पराजय सहस्रगुना अच्छी है। - अज्ञात।

Find Us On:

English Hindi
Loading

अब्बास रज़ा अल्वी | ऑस्ट्रेलिया

अब्बास रज़ा अल्वी भारतीय मूल के ऑस्ट्रेलिया के नागरिक हैं। आपका जन्म फतेहगढ़, उत्तर प्रदेश में हुआ था। 

आपकी शिक्षा-दीक्षा फतेहगढ़, अलीगढ़ विश्वविद्यालय तथा मास्को में हुई।

साहित्य, संगीत, चित्रकला और अभिनय के अतिरिक्त बागबानी का भी शौक है। आपकी कई सी डी भी निकली हैं। 

 

 

Author's Collection

Total Number Of Record :2
रंगीन पतंगें

अच्छी लगती थी वो सब रंगीन पतंगे
काली नीली पीली भूरी लाल पतंगे

कुछ सजी हुई सी मेलों में
कुछ टँगी हुई बाज़ारों में
कुछ फँसी हुई सी तारों में
कुछ उलझी नीम की डालों में
कुछ कटी हुई कुछ लुटी हुई
पर थीं सब अपनी गाँवों में
...

More...
छोटी सी बिगड़ी बात को

छोटी सी बिगड़ी बात को सुलझा रहे हैं लोग
यह और बात है के यूँ उलझा रहे हैं लोग

चर्चा तुम्हारा बज़्म में ग़ैरों के इर्द गिर्द
कुछ इस तरह से दिल मेरा बहला रहे हैं लोग

अरमाँ नये साहिल नये सब सिलसिले नये
उजड़े हुए दायर में दिखला रहे हैं लोग

...

More...
Total Number Of Record :2

सब्स्क्रिप्शन

Captcha Code

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश