राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार

Find Us On:

English Hindi
Loading

वृंदावनलाल वर्मा

वृंदावनलाल वर्मा का जन्म 9 जनवरी, 1889 को मऊरानीपुर, झाँसी (उत्तर प्रदेश) में हुआ था। आपके पिता का नाम अयोध्या प्रसाद था।

rn

वृंदावनलाल वर्मा जी के विद्या-गुरु स्वर्गीय पण्डित विद्याधर दीक्षित थे। आप प्रसिद्ध ऐतिहासिक उपन्यासकार एवं निबंधकार थे।

rn

आपने मुख्यत: नाटक, कहानी, निबंध व उपन्यास विधाओं में सृजन किया है।

rn

साहित्य कृतियां:

rn

उपन्यास : अहिल्या बाई, भुवन विक्रम, गढ़ कुण्डार, विराटा की पद्मिनी, झांसी की रानी, कचनार, मुसाहिबजू, माधवजी सिंधिया, टूटे कांटे, मृगनयनी, संगम, लगान, कुण्डली चक्र, प्रेम की भेनी, कभी न कभी, आँचल मेरा कोई, राखी की लाज, अमर बेल

rn

नाटक : हंस मयूर, बांस की फांस, पीले हाथ, केवट, पूर्व की ओर, नीलकंठ, मंगल सूत्र, बीरबल, ललित विक्रम

rn

23 फरवरी, 1969 को आपका निधन हो गया।

rn

 

Author's Collection

Total Number Of Record :1
मेंढ़की का ब्याह

उन जिलों में त्राहि-त्राहि मच रही थी। आषाढ़ चला गया, सावन निकलने को हुआ, परन्तु पानी की बूंद नहीं। आकाश में बादल कभी-कभी छिटपुट होकर इधर-उधर बह जाते। आशा थी कि पानी बरसेगा, क्योंकि गांववालों ने कुछ पत्रों में पढ़ा था कि कलकत्ता-मद्रास की तरफ जोर की वर्षा हुई है। लगते आसाढ़ थोड़ा सा बरसा भी था । आगे भी बरसेगा, इसी आशा में अनाज बो दिया गया था । अनाज जम निकला, फिर हरियाकर सूखने लगा। यदि चार-छ: दिन और न बरसा, तो सब समाप्त । यह आशंका उन जिलों के गांवों में घर करने लगी थी। लोग व्याकुल थे।

...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश