समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

Find Us On:

English Hindi
Loading

अमृतराय

अमृतराय प्रेमचंद के छोटे बेटे थे।  आपका जन्म 1921 में वाराणसी, उत्तर प्रदेश में हुआ। अपने पिता 'प्र्रेम्च्ज्द' की बजती मूलतः कहानीकार व उपन्यासकार थे।

rn

आपको अनुवादक व जीवनीकार के रूप में भी ख्याति मिली।  इसके अतिरिक्त आपने व्यंग्य और समालोचक भी लिखीं।  प्रेमचंद की जीवनी 'कलम का सिपाही' के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। नाट्य-लेखन में भी सक्रिय रहे। अंग्रेजी, बंगला और हिन्दी पर समान अधिकार था।

rn

प्रमुख कृतियां: 'साहित्य में संयुक्त मोर्चा', 'सुबह का रंग', 'लाल धरती', 'नई समीक्षा', 'नागफनी का देश', 'हाथी के दांत', 'अग्निशिखा', 'फांसी के तख्ते से', 'कस्बे का एक दिन', 'गीली मिट्टी', 'कठघरे', 'जंगले', 'सहचिंतन', 'भटियाली', 'आधुनिक भावबोध की संज्ञा', 'बतरस', 'चतुरंग', 'सारंग' और 'धुआं' ।

प्रमुख अनुवाद: 'स्पार्टाकस' का अनुवाद 'आदिविद्रोही', 'हैमलेट' का, 'समरगाथा'।  देश-विदेश के कई महत्वपूर्ण पुरस्कारों से सम्मानित किये गए।

आपका विवाह सुभद्राकुमारी चौहान की बेटी सुधा चौहान से हुआ।

rn

प्रेमचंद की बिखरी रचनाओं के संपादन के अतिरिक्त आपने 'हंस' और ‘नई कहानी' का संपादन भी किया। कई बार जेल जाना पड़ा।

rn

14 अगस्त, 1996 को आपका निधन हो गया।

rn

 

Author's Collection

Total Number Of Record :1
गीली मिट्टी

नींद में ही जैसे मैंने माया की आवाज़ सुनी और चौंककर मेरी आंख खुल गई। बगल के पलंग पर नज़र गई, माया वहां नहीं थी। आज इतने सवेरे माया कैसे उठ गई, कुछ बात समझ में नहीं आई ।

आवाज़ दरवाज़े पर से आई थी । मैं हड़बड़ाकर उठा और वहां पहुंचा, तो क्या देखता हूं कि माया दरवाज़ा खोले खड़ी है और बाहर के बरामदे में एक दुबला-पतला आदमी, मंझोले कद का, सिर्फ़ एक जरासी लुगड़ी लपेटे, बाकी सब धड़ और टांगें नंगी, उकडू बैठा है। माया दरवाज़ा खोलने आई, तो आज सबसे पहले इसी आदमी के दर्शन हुए। मैंने भी देखा और मुझे भी गुस्सा आया कि यह मरदूद कैसे आ मरा । मैंने डपट कर पूछा-‘कौन हो तुम ? यहां कैसे आए ?"

...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश